सोसाइटी के सदस्य निम्नलिखित प्रवर्गों के होंगे –


(क) संरक्षक सदस्य –वह ब्यक्ति जो विधि स्नातक की शिक्षा प्राप्त हो तथा विधि व्यासाय मे नियूनतम 30 वर्ष का अनुभव रखते हुये समिति को नि : शुल्क विधिक सहायता प्रदान करने के लिए तत्पर हो सोसाइटी का संरक्षक सदस्य होगा |


(ख) आजीवन सदस्य — वह ब्यक्ति जो विधि स्नातक की शिक्षा प्राप्त हो तथा विधि व्यासाय मे नियूनतम 20 वर्ष का अनुभव रखते हुये समिति को नि : शुल्क विधिक सहायता प्रदान करने के लिए तत्पर हो सोसाइटी का आजीवन सदस्य होगा |


(ग) वह ब्यक्ति जो विधि स्नातक की शिक्षा प्राप्त हो तथा विधि व्यासाय करने मे सक्षम हो वह समिति का ऐसी अवधि के लिए जबतक की वह विधि व्यवसाय करेगा सोसाइटी का साधारण सदस्य होगा |


(घ) अवैतनिक सदस्य –सोसाइटी की प्रबंधकारिणी समिति किस ऐसे व्यक्ति को जो नियुन्तम विधि की स्नातक शिक्षा प्राप्त की हो ऐसे ब्यक्तियों को अवैतनिक सदस्य बना सकती है ऐसे सदस्य वार्षिक साधारण सम्मिलन मे भाग ले सकते है परंतु ये मत देने के हकदार नहीं होंगे |


सदस्यता की प्राप्ति – प्रत्येक ब्यक्ति जो जो नियुन्तम विधि की स्नातक शिक्षा प्राप्त की हो को सदस्य बनाने का इक्षुक हो प्रबंधकारिणी के सदस्य के समक्ष लिखित मे अपना आवेदन प्रस्तुत करना चाहिए | प्रबंधकारिणी समिति सदस्यता के लिए ऐसे आवेदन को स्वीकार करने या निरस्त करने के लिए प्राधिकृत होगी |


सदस्यता के लिए अर्हता –


1- आयु 25 वर्ष से कम नहीं होनी चाहिए
2- नियुन्तम वह विधि स्नातक हो
3- वह भारत का नागरिक होना चाहिए
4- उसका सोकाइटी के नियमो के प्रति विसवास हो तथा वह उसका पालन करता हो
5- वह सच्चरित्र हो तथा मद्यपान न करता हो


सदस्यता की समाप्ती —


1- मृत्यु हो जाने पर
2- पागल हो जाने पर
3- नियम 5 के अनुसार सोसाइटी के उद्देश्य के अनुरूप कार्य करने मे असफल रहने पर
4- त्यागपत्र देने पर यदि स्वीकृत हो जाता है तो
5- नैतिक अधमता से संबन्धित किसी अन्य कारण के सिद्ध्ध हो जाने पर
6- सोसाइटी के अनुरूप निर्मित अन्य सोसाइटी की सदस्यता प्राप्त का लेने पर या अन्य सोसाइटी का निर्माण कर लिए जाने पर
7- सोसाइटी द्वारा विधि व्यवसाय हेतु मुवक्किल के साथ की गई विधिक शुल्क की संविदा के विपरीत विधिक शुल्क प्राप्त करने के कदाचार पर जो प्रबंध करिणी द्वारा प्रमाणित पाये जाने पर |
8- आपराधिक दोष सिद्धधी , व्यावसायिक कदाचार प्रमाणित होने पर , समिति द्वारा प्रस्ताव पारित किया जाकर निस्कासित करने पर तथा ऐसा निर्णय संबन्धित सदस्य को लिखित मे संसूचित किया जाकर क्या जाएगा |